Wednesday, November 25, 2020
Home Articles Motivational ज्यादा ख्वाइशें ही भटकाव का कारण हैं...

ज्यादा ख्वाइशें ही भटकाव का कारण हैं…

जब तक जिंदगी है ख्वाइशें तब तक रहेंगी। ख्वाहिशों का होना कोई बुरी बात नहीं लेकिन हर ख्वाहिशों को बढ़ावा देना और चाहना की हर ख्वाहिश पूरी हो यह बिल्कुल गलत है।

हद से ज्यादा ख्वाइशें इंसान को उलझा देती हैं और हद से ज्यादा ख्वाइशें रखने वाला इंसान कभी यह नहीं बता सकता कि आखिर उसे चाहिए क्या??

जिंदगी में सिर्फ कुछ गिनी चुनी ख्वाहिशें होनी चाहिए,ऐसा कर पाना हालांकि बिल्कुल आसान नहीं होता पर ऐसा इंसान अपनी जिंदगी को मकसद प्रदान कर पाता है और सही मायनों में जिंदगी को किसी मंजिल तक पहुंचाता है।

आप किसी भी एक ख्वाहिश को लेकर आगे बढीये, एक समय के बाद प्यार, आकर्षण, जरूरत, लगाव, द्वेष, क्रोध यह सब 1 ख्वाइश से हजार छोटी-छोटी ख्वाहिशों को जन्म दे देती हैं और इंसान भूल जाता है कि आखिर वह कौन सी ख्वाहिश लेकर निकला था।

read also … motivational article

कुछ भी हो वक़्त इम्तिहान ले या प्यार, आकर्षण, द्वेष जैसी चीजें रास्ते में रुकावट बने कभी अपनी उस ख्वाहिश को मत भूलिए जिसे पूरा करने के उद्देश्य से आपने आगे कदम बढ़ाया था। अपनी ख्वाहिश के लिए लगाए गए आपके Efforts ही आपके परमसुख (Ecstasy) हैं।

pic credit – jyotesh.blogspot.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Current Affairs 2 sept. 2020

HINDI CURRENT AFFAIRS HINDI CURRENT AFFAIRS AND MOST IMPORTANT CONTENT FOR UPCOMING EXAMS लुईस हैमिल्टन...

महिला समानता दिवस : 26 अगस्त

महिला समानता दिवस हर साल 26 अगस्त को मनाया जाता है। महिला समानता की सबसे पहली शुरुआत न्यूजीलैंड ने 1893 में की...

गणेश चतुर्थी 2020

गणेश चतुर्थी कब मनाई जाती है?? भाद्र मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को...

कृष्ण जन्माष्टमी 2020

कृष्ण जन्माष्टमी ( KRISHNA JANMASTMI ) कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के उपलक्ष पर बनाई जाती है...

Recent Comments