Tuesday, November 24, 2020
Home Articles History उत्तराखंड : नदी, ग्लेशियर, झील

उत्तराखंड : नदी, ग्लेशियर, झील

  • पांच नदियों का उद्गम स्थल। : काली ,252 किलोमीटर
  • राज्य में सबसे अधिक जल प्रवाह वाली नदी। : अलकनंदा
  • टनकपुर के बाद काली नदी का नाम है। : शारदा
  • भिलंगना नदी कहां से निकलती है । : खतलिंग ग्लेशियर (टिहरी)
  • भिलंगना नदी की सहायक नदियां। : मेदेगंगा, दूधगंगा, धर्म गंगा व बाल गंगा
  • चमोली में सतोपंथ शिखर के हिमनद व सतोपंथ ताल से निकलती है । ; अलकनंदा
  • उत्तराखंड में किस नदी का क्षेत्रफल सर्वाधिक अधिक है। : काली (शारदा) का
  • गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया । : 4 नवंबर 2008 को
  • गंगोत्री से देवप्रयाग तक गंगा का नाम व लंबाई। : भागीरथी , 205 किलोमीटर
  • पंच प्रयाग में प्रथम प्रयाग विष्णुप्रयाग है जहां अलकनंदा में मिली है । : प. धौलीगंगा ( विष्णुगंगा )
  • पंच प्रयाग में द्वितीय प्रयाग नंदप्रयाग (चमोली) में है जहां अलकनंदा में मिलती है । : मंदाकिनी नदी
  • तृतीय प्रयाग कर्णप्रयाग (चमोली) है जहां अलकनंदा में मिलती है । : पिंडर नदी
  • चतुर्थ प्रयाग रुद्रप्रयाग है जहां अलकनंदा में मिली है। : मंदाकिनी नदी
  • पंच प्रयागों में अंतिम प्रयाग देवप्रयाग (टिहरी) है जहां अलकनंदा मिलती है । : भागीरथी से
  • कोसी नदी कहां से निकलती है । : कौसानी बागेश्वर के पास
  • देवप्रयाग से राज्य सीमा तक गंगा का नाम व लंबाई। : गंगा ,96 किलोमीटर
  • गौरी नदी निकली है। : मिलम हिमनद से
  • पूर्व राम गंगा का उद्गम स्थल है । : पूर्व रामगंगा
  • काली नदी की अंतिम व सहायक नदी जो राज्य में प्रवाहित होती है। : लधिया नदी

to more Uttarakhand g k :- click here

नदी के पास स्थित मंदिर ;

  • अलकनंदा व ऋषि गंगा संगम पर : बद्रीनाथ चमोली
  • अलकनंदा व सरस्वती नदी संगम पर : केशव प्रयाग
  • अलकनंदा व पिंडर संगम पर : कर्णप्रयाग
  • अलकनंदा और मंदाकिनी संगम पर : रुद्रप्रयाग
  • भागीरथी व अकाश गंगा संगम पर : गोमुख
  • भागीरथी व केदार गंगा संगम पर : गंगोत्री
  • अलकनंदा मंदाकिनी संगम पर : नंदप्रयाग
  • अलकनंदा व विष्णु गंगा संगम पर : विष्णुप्रयाग
  • अलकनंदा वाह नंदाकिनी संगम पर : नंदप्रयाग
  • गंगा का चंद्रभागा संगम पर : ऋषिकेश
  • यमुना व टोंस संगम पर : कालसी

प्रमुख ताल :-

  • उत्तराखंड की अधिकांश झीलें ताल है : हिमानी प्रकार की
  • कुमाऊं क्षेत्र की अधिकांश जिले हैं : नैनीताल में
  • नैनीताल झील की खोज 1841 में की थी : सी.पी. बैरन ने
  • कुमाऊं क्षेत्र का सबसे बड़ा ताल : भीमताल त्रिभुजाकार
  • कुमाऊं क्षेत्र का सबसे गहरा ताल : लगभग 40 मीटर ताल नोकुचियाताल
  • किस ताल की आकृति गोल है : झिलमिल ताल चंपावत
  • द्रोणाचार्य से संबंधित द्रोणताल कहां है : काशीपुर
  • गढ़वाल क्षेत्र की अधिकांश झीलें : चमोली में
  • राज्य में सर्वाधिक झीलों वाला जिला : चमोली
  • किस ताल का पानी लाल है : बासुकी ताल (टिहरी)
  • राजहंस किस ताल में देखने को मिलते हैं : मंसूर ताल तेरी (टिहरी)
  • मनेरी व जोशियारा कृत्रिम झीलें हैं : उत्तरकाशी में
  • नचिकेता ताल कहां स्थित है : उत्तरकाशी
  • शेषनाग के अक्षरों से बना पौराणिक शेष नेत्र झील स्थित है : बद्रीनाथ (चमोली)
  • राज्य गढ़वाल क्षेत्र का सबसे बड़ा हिमनद : गंगोत्री या गोमुख हिमनद
  • राज्य का दूसरा सबसे बड़ा हिमनद : पिंडारी हिमनद
  • हिमनद मिलम हिमनद : मुंस्यारी पिथौरागढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Current Affairs 2 sept. 2020

HINDI CURRENT AFFAIRS HINDI CURRENT AFFAIRS AND MOST IMPORTANT CONTENT FOR UPCOMING EXAMS लुईस हैमिल्टन...

महिला समानता दिवस : 26 अगस्त

महिला समानता दिवस हर साल 26 अगस्त को मनाया जाता है। महिला समानता की सबसे पहली शुरुआत न्यूजीलैंड ने 1893 में की...

गणेश चतुर्थी 2020

गणेश चतुर्थी कब मनाई जाती है?? भाद्र मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को...

कृष्ण जन्माष्टमी 2020

कृष्ण जन्माष्टमी ( KRISHNA JANMASTMI ) कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के उपलक्ष पर बनाई जाती है...

Recent Comments